July 25, 2024

राष्ट्र की परम्परा

हिन्दी दैनिक-मुद्द्दे जनहित के

जिलाधिकारी की अध्यक्षता में संपन्न हुई जिला वृक्षारोपण, गंगा व पर्यावरण समिति की बैठक

बलिया(राष्ट्र की परम्परा)l जिलाधिकारी रवींद्र कुमार की अध्यक्षता में शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभागार जिला गंगा समिति, जिला पर्यावरण समिति, जिला वेटलैंड समिति व जिला वृक्षारोपण समिति की समीक्षा बैठक आयोजित की गई। इसमें बैठक में खासतौर पर वर्ष 2024-25 में आवंटित लक्ष्य के तहत जिले में होने वाले वृक्षारोपण, गंगा दशहरा मनाने और पर्यावरण संबंधी कार्यक्रम की समीक्षा की गई।

डीएफओ ने बताया कि वन,पंचायती राज, नगर विकास, रेलवे, पशुपालन, कृषि, ग्राम्य विकास और लोक निर्माण विभाग सहित अन्य विभागों को मिलाकर जनपद बलिया का वर्ष 2024-25 के लिए वृक्षारोपण का आवंटित लक्ष्य 39.29 लाख है। सभी विभागों द्वारा स्थलों का चयन और गड्ढों की खुदाई का कार्य में प्रगति कर ली है। की उपलब्धता के लिए जनपद के 28 नर्सरियों में 62 लाख पौधे उगाए गए हैं जिसमें से 40 लाख बड़े पौधे हैं। जिलाधिकारी ने डीएफओ को पिछले साल जनपद के 17 विभागों द्वारा लगाए गए पौधों की जिविविता की जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करने हेतु निर्देशित किया। कहा कि इस वर्ष के वृक्षारोपण कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए गांव से शहर तक आमजनमानस की सहभागिता जरूरी है, तभी यह कार्यक्रम सफल हो पाएगा। उन्होंने इस साल के वृक्षारोपण की पूरी कार्य योजना को 15 दिन के अंदर प्रस्तुत करने का निर्देश दिया। जितने भी स्थानों पर वृक्षारोपण का कार्य होना है वहां प्रत्येक विभाग के वृक्षारोपण कार्य के लिए स्थलवार नोडल अधिकारी नामित किया जाए, जिससे पौधों की सुरक्षा ,सिंचाई एवं अनुरक्षण कार्यों को नियमित रूप से किया जा सके। पौधारोपण के पश्चात उनकी सफलता सुनिश्चित करने हेतु सुरक्षा ,सिंचाई तथा समुचित रखरखाव सुनिश्चित किया जाए।

गंगा समिति की समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने 16 जून को मनायें जाने वाले गंगा दशहरा को लेकर साफ सफाई के लिए नगरीय क्षेत्रों में संबंधित अधिशासी अधिकारी और ग्रामीण क्षेत्रों में डीपीआरओ के माध्यम से एडीओ पंचायतों को विभिन्न गंगा घाटों पर साफ-सफाई, बैरिकेडिंग और आवश्यकता पड़ने पर प्रकाश व्यवस्था का विशेष रूप से इंतजाम की पूरी कार्य योजना तैयार करने का निर्देश दिया।इस बैठक में मुख्य विकास अधिकारी ओजस्वी राज, डीएफओ विमल आनंद सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।