July 24, 2024

राष्ट्र की परम्परा

हिन्दी दैनिक-मुद्द्दे जनहित के

कटान रोधी व्यवस्था कराने में विधायक रिजवी सफल

टेंडर हुआ लोगों में खुशी

सिकंदरपुर /बलिया (राष्ट्र की परम्परा)

घाघरा नदी के किनारे बसे लोगों को कटान से काफी क्षति हुई है। पिछले वर्षों में दर्जनों एकड़ उपजाऊ जमीन कट कर घाघरा में समाहित हो चुकी है और प्रति रोधी व्यवस्था के अभाव में यह कटान बदस्तूर जारी है।इस दौरान कटान ने जहां अनेक किसानों के जमीन का रकबा घटा दिया है वहीं कई को भूमिहीन कर दिया है।
कटान रोकने के लिए क्षेत्रीय विधायक जियाउद्दीन रिजवी द्वारा काफी प्रयास किया गया है जिसके परिणाम स्वरूप अब कटान रोकने हेतु टेंडर हो गया है।

विधायक जियाउद्दीन रिजवी ने पत्र प्रतिनिधियों से वार्ता के दौरान बताया कि कटान को रोकने हेतु मैं कई बार प्रदेश के सिंचाई मंत्री एवम प्रमुख सचिव सिंचाई से मिला।काफी प्रयास किया कि कटान एरिया में एक रिंग बंधा बन जाय।किंतु सिंचाई विभाग द्वारा रिपोर्ट लगा दी गई कि जहां बंधा बनाने की मांग की जा रही है।यह क्षेत्र बाढ़ जोन में आता है।इसलिए बंधा नही बनाया जा सकता।फिर मैं सिंचाई मंत्री एवम प्रमुख सचिव सिंचाई में मिला तथा किसी तरह से कटान रोकने की व्यवस्था का आग्रह किया। प्रमुख सचिव सिंचाई ने पुनः अधिशासी अभियंता बाढ़ से आख्या मांगा।अधिशासी अभियन्ता ने अपने रिपोर्ट में बताया कि बोरी में झवा भरकर कटान को कुछ हद तक रोका जा सकता है जिस पर मुझे पुनः सिंचाई मंत्री मिलना पड़ा।तब जाकर सिंचाई मंत्री ने विभाग को निर्देश दिया की बोरी में झवा डालकर कटान को रोका जाय।जिसका टेंडर हो गया है।जिससे किसानों की उपजाऊ जमीन बचाई जा सकेगी।

कटान रोकने के लिए जियाउद्दीन रिजवी के प्रयास और सफलता से कटान प्रभावित भागों के किसानों व आम जनता में काफी खुशी है और रिजवी के प्रयास की सराहना की जा रही है।

नोट-

घाघरा नदी का कटान रोकने के लिए पुरुषोत्तम पट्टी गांव में लोकसभा चुनाव के दौरान पूर्व सांसद रवींद्र कुशवाहा को वहां की जनता का झेलना मुश्किल हो गया था और वहां की जनता उनको गांव में घूमने नहीं दिया जिसके वजह से पूर्व सांसद रवींद्र कुशवाहा को जनता के कोप का भाजन बनना पड़ा