July 24, 2024

राष्ट्र की परम्परा

हिन्दी दैनिक-मुद्द्दे जनहित के

तमंचा 312 बोर एक जिंदा कारतूस , 3 मोबाईल ,14 सौ रुपये नगद व 8 किलो 600 ग्राम नाजायज़ गांजा बरामद

कोपागंज मऊ(राष्ट्र की परम्परा)21सितम्बर… पुलिस अधीक्षक के निर्देशन में अपराध व अपराधियों के विरुद्ध चलाये जा रहे अभियान के तहत मंगलवार को चेकिंग के दौरान मुखबिर की सूचना पर कोपागंज पुलिस ,एसओजी व सर्विलांस की टीम ने हाइवे के बलुआ तिराहा के पास गोरखपुर से आ रही बोलरो को रुकने का इशारा किया तो वो बोलरो मोड़ कर भागने लगा । तत्काल पुलिस ने ततपरता दिखाते हुए उसे घेर कर पकड़ लिया और गाड़ी की तलासी लिया तो उसके कब्जे से एक अदद तमंचा 312 बोर एक जिंदा कारतूस , 3 मोबाईल ,14 सौ रुपये नगद व 8 किलो 600 ग्राम नाजायज़ गांजा बरामद किया । जबकि उक्त पकड़ा गया मुल्जिम यूपी गेंगेस्टर एक्ट का वन्धित व 10 हजार रुपये का इनमिया बताया जाता है । पुलिस ने समन्धित धाराओं में मुकदमा पंजीकृत करते हुए उसे न्यायालय भेज दिया ।
उक्त मामले का पर्दाफाश करते हुए थानाध्यक्ष अमित कुमार मिश्रा ने बताया कि पकड़ा गया अभियुक्त प्रियांशु श्रीवास्तव पुत्र स्व अवधेश श्रीवास्तव निवासी बनकटा थाना कोतवाली जनपद बलिया का रहने वाला है । उसके ऊपर पूर्व में कुल 6 मुकदमे दर्ज है जबकि वह यूपी गेंगेस्टर एक्ट का वन्धित मुल्जिम है जिसकी गिरफ्तारी के लिए 10 हजार रुपये का इनाम भी घोषित है । मंगलवार की दोपहर पुलिस अधीक्षक अविनाश पाण्डेय के निर्देश पर वाहनों की चेकिंग चल रही थी कि उसी दरम्यान मुखबिर से सूचना मिली कि गोरखपुर की तरफ से एक बोलरो में भारी मात्रा में गांजा आ रहा था । थानाध्यक्ष यह सुनते ही चौकन्ना हो गये और तत्काल इसकी जानकारी एसओजी व सर्विलांस को देते हुए घेरे बन्दी कर दिए । उक्त बोलरो को आता देख पुलिस ने रुकने का इशारा किया तो गाड़ी घुमाकर भागने लगा । पुलिस ने तत्काल घेरे बन्दी कर पकड़ लिया । पुलिस ने बोलरो को कब्जे में लेते हुए तलाशी लिया तो उसमें रखा 312 बोर का देशी तमंचा, एक जिंदा कारतूस ,3 मोबाईल फोन, 1400 रुपये नगद, व 8 किलो 600 ग्राम गांजा बरामद थाने लायी और समन्धित धाराओ में मुकदमा दर्ज करते हुए न्यायालय भेज दिया । पकड़े वालो में थानाध्यक्ष अमित कुमार मिश्रा, विवेक सिंह, उपनिरीक्षक गंगासागर मिश्रा, रविपाल, संजीव सिंह, अष्टभुजा प्रसाद, औरगजेब, अजय यादव, अवधेश, अमरनाथ मौर्य, लायक हुसैन, अजित यादव, शशिमणि त्रिपाठी आदि रहे ।

संवादाता मऊ…