July 25, 2024

राष्ट्र की परम्परा

हिन्दी दैनिक-मुद्द्दे जनहित के

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर समय से नहीं उपस्थित रहते है डॉक्टर

सलेमपुर/देवरिया(राष्ट्र की परम्परा)सलेमपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का है बुरा हाल इस स्वास्थ्य केंद्र के कर्मचारियों को सरकारी आदेशों और दिशा निर्देशों से कोई फर्क नहीं पड़ता है । यहां के स्वास्थ्य कर्मी अपने मन के मालिक है ।अपने इच्छा से कार्यालय आते है अपने हिसाब से कार्य करते है और फिर चले जाते है ।सरकारी दिशानिर्देश के अनुसार सरकारी हॉस्पिटल खुलने का समय 8 बजे से 2 बजे तक का निर्धारित है। लेकिन यह समय सारणी सलेमपुर के सरकारी हॉस्पिटल में लागू नहीं होता । इस हॉस्पिटल में एक डॉक्टर को छोड़ दिया जाय तो दूसरा कोई भी डॉक्टर समय से उपस्थित नहीं रहता कई डॉक्टर तो ऐसे है जिनकी तैनाती अन्यत्र हॉस्पिटल में है लेकिन इस हॉस्पिटल में बैठे रहते है। इस हॉस्पिटल के कर्मचारियों के संदर्भ में कई बार मुख्य चिकित्सा अधिकारी देवरिया से फोन पर बात कर के सूचना दी जा चुकी है ।कई बार कई सारे समाचार पत्रों में प्रमुखता से इस मामले को प्रकाशित भी किया तो कुछ दिनों तक सब कुछ सही चला लेकिन फिर हाल बेहाल हो गया है । सूत्रों के अनुसार मामला आज सुबह का है एक व्यक्ति किसी मरीज के साथ हॉस्पिटल में पहुंचे तो देखा कि 8:45 बजे तक महिला चिकित्सक के कार्यालय में ताला लटक रहा है तो वही नेत्र विभाग में भी ताला लटक रहा है।अन्य चिकित्सकों के कार्यालय का भी यही हाल है । अब भला मरीज भी कया करे आके डॉक्टरों का इंतजार करने के सिवा कोई चारा भी तो नहीं है । सवाल ये उठता है कि इतनी बार मुख्य चिकित्सा अधिकारी को संज्ञान देने के बाद भी यहां तैनात डॉक्टरों पर कोई फर्क नहीं पड़ता की तो यहां तैनात डॉक्टर इतने रसूख वाले है की इनको किसी भी सरकारी आदेश या अपने अधिकारी के आदेश से कोई फर्क नहीं पड़ता या अधिकारी ही कही न कही संलिप्त है ।जिस कारण इस हॉस्पिटल के कर्मचारी लापरवाह है। इस संदर्भ में चिकित्सा अधीक्षक से बात करने हेतु फोन करने पर इनका फोन बंद मिला।