July 24, 2024

राष्ट्र की परम्परा

हिन्दी दैनिक-मुद्द्दे जनहित के

कुर्ला (पूर्व )रेलवे स्टेशन के बाहर जल जमाव से यात्री परेशान

मुंबई (राष्ट्र की परम्परा)
मध्य रेलवे के कुर्ला स्टेशन से आने जाने वाले यात्री इन दिनों कई समस्याओं से जुझ रहे हैं। हल्की बारिश में भी कुर्ला पूर्व स्टेशन के बाहर जल जमाव होने लगा है। इस तस्वीर में सहज ही देखा जा सकता है कि दो दिनों से जमा हुए इस पानी में अब बरसाती कीडे रेंगने लगे हैं, जो कि बरसाती बिमारियों का संकेत है। एक तरफ मध्य रेलवे अपने यात्रियों को बेहतर सुविधा और सुरक्षा मुहैया करने का दावा करती है। वहीं दूसरी तरफ मानसून की पहली दस्तक में हुई हल्की बारिश का पानी अब यात्रियों के लिए बिमारियों का संकेत दे रही है। इसके अलावा रेलवे के पदचारी पुल पर फेरीवालों का कब्जा रेल यात्रियों के लिए परेशानियों का सबब बनता जा रहा है। ऐसे में रेल प्रशासन यात्रियों की सुविधाओं के मद्देनजर हरकत में आएगी या नही?

गौरतलब है कि कुर्ला स्टेशन पूर्व में रेलवे के अधिकारियों ,कर्मचारियों के अलावा आरपीएफ और जीआरपी के जवानों का दिन भर दौरा रहता है। बावजूद इसके यहां पिछले दो दिनों से जल जमाव और उसमें रेंगते बरसाती कीडे – मकोड़े दिखाई नहीं देते या इसे नजर अंदाज किया जाता है। ऐसे में सवाल यह उठता है कि रेल प्रशासन में बैठे आला अधिकारी सिर्फ दावा करते रहेंगे या उनका ध्यान अपने यात्रियों की सुविधाओं की तरफ भी होगा? इतना ही नहीं मौजूदा समय में कुर्ला स्टेशन पूर्व परिसर में बैठे फेरीवालों के कारण रेलवे के पादचारी पुल से बाहर निकलना भी असंभव होता जा रहा है। एक तरफ जल जमाव और दूसरी तरफ फेरीवालों की दादागिरी के कारण यात्रियों को भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में माना जा रहा है कि रेल यात्रियों को सुविधा पहुंचाने के बजाए उन्हें परेशानियों में ढकेला जा रहा है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी मुंबई के उपाध्यक्ष संजीव उपाध्याय ने बताया कि अभी तो मानसून की पहली बारिश थी, अगर मानसून ने अपना रंग दिखाना शुरू किया तो मध्य रेलवे के खोखले दावों का क्या होगा। राकांपा नेता उपाध्याय ने यह भी बताया कि कुर्ला ( पूर्व) के साबले नगर, हनुमान नगर, राजीव गांधी नगर और नेहरू नगर के निचले इलाकों में थोड़ी सी बरसात होने पर जलजमाव हो जाता है ऐसे में उन निचले इलाकों में मनपा पानी निकासी के लिए मोटर पंप बिठाए।